Latest Posts:
Truth Quotes

जब अपराधी या बलात्कारी, जाति का सिरमौर बनें। पुलिस-केंद्र व न्यायालय, बदनीयतों की ठौर बनें। जब अखबार छपने से, पहले ही बिक जाते हों। पत्रकार मनपसंद दरबारों में, सिर झुकाते हों। तो समझो देश की, खुशहाली जाने वाली हैं। फिर से आम लोगों के लिए ‘पुष्पक’, काली रात आने वाली है।

Google+ Pinterest LinkedIn Tumblr



जब अपराधी या बलात्कारी, जाति का सिरमौर बनें। पुलिस-केंद्र व न्यायालय, बदनीयतों की ठौर बनें। जब अखबार छपने से, पहले ही बिक जाते हों। पत्रकार मनपसंद दरबारों में, सिर झुकाते हों। तो समझो देश की, खुशहाली जाने वाली हैं। फिर से आम लोगों के लिए 'पुष्पक', काली रात आने वाली है।
जब अपराधी या बलात्कारी, जाति का सिरमौर बनें।
पुलिस-केंद्र व न्यायालय, बदनीयतों की ठौर बनें।
जब अखबार छपने से, पहले ही बिक जाते हों।
पत्रकार मनपसंद दरबारों में, सिर झुकाते हों।
तो समझो देश की, खुशहाली जाने वाली हैं।
फिर से आम लोगों के लिए ‘पुष्पक’, काली रात आने वाली है।



Write A Comment