Latest Posts:
Category

Amazing Quotes

Category
खुद को परखो खुद को जानो,अपने अंदर की संभावनायें जगाओ। चुभ रही है जो हृदय में ,उस चुभन को पुष्प बनाओ। परखो अपने अंदर की सच्चाई को, अच्छाई को ढाल बना लो। जीतोगे हर जंग मुसाफिर,जीतने की उम्मीद जगा लो। प्रकृति भी तुम्हें तोड न पायेगी ,बस आत्मविश्लेषण कर मनको उठा लो। खुद को परखो खुद को जानो,खुद की एक पहचान बना लो। सविता

खुद को परखो खुद को जानो,अपने अंदर की संभावनायें जगाओ। चुभ रही है जो हृदय में ,उस चुभन को पुष्प बनाओ। परखो अपने अंदर की सच्चाई को, अच्छाई को ढाल बना लो। जीतोगे हर जंग मुसाफिर,जीतने की उम्मीद जगा लो। प्रकृति भी तुम्हें तोड न पायेगी ,बस आत्मविश्लेषण कर मनको उठा लो। खुद को परखो खुद को जानो,खुद की एक पहचान बना लो। सविता

खुद को परखो खुद को जानो,अपने अंदर की संभावनायें जगाओ।चुभ रही है जो हृदय में ,उस चुभन को पुष्प बनाओ।परखो अपने अंदर की सच्चाई को, अच्छाई को ढाल बना लो।जीतोगे हर जंग मुसाफिर,जीतने की उम्मीद जगा लो।प्रकृति भी तुम्हें तोड न पायेगी ,बस आत्मविश्लेषण कर मनको उठा लो।खुद को परखो खुद को जानो,खुद की एक

धूप कितनी भी तेज हो समुन्दर सूखा नही पड़ सकता। उसी तरह उमीदों का सागर किसी एक हार से खाली नही हो सकता।

धूप कितनी भी तेज हो समुन्दर सूखा नही पड़ सकता। उसी तरह उमीदों का सागर किसी एक हार से खाली नही हो सकता।